दलहन में भारत जल्द बनेगा आत्मनिर्भर

भारत आने वाले वर्षों में दलहन पैदावार में आत्मनिर्भर हो जाएगा। दलहन फसलों की शानदार पैदावार से दालों की आपूर्ति में सुधार हुआ है। राज्यसभा में प्रश्नोत्तर के दौरान केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने यह बात कही।
उन्होंने कहा कि सरकार को उम्मीद है कि अगले दो-तीन सालों में दालों की मांग आपूर्ति के अंतर को खत्म कर देगी।
कृषि मंत्री ने फसलों की उपज के अग्रिम अनुमान का हवाला देते हुए कहा कि चालू फसल वर्ष में कुल 2.21 करोड़ टन दलहन की पैदावार का अनुमान है। इसकी शानदार उपज से दालों की आयात निर्भरता में कमी आने की संभावना है। कृषि मंत्री ने इस रिपोर्ट को खारिज कर दिया कि देश की कुछ मंडियों में दलहन का भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य से नीचे है। उन्होंने कहा कि किसानों की उपज का उचित मूल्य दिलाने केलिए ई-मार्केट प्लेटफार्म की शुरुआत की गई है। मंत्री ने कहा कि मूल्य स्थिरीकरण निधि से दलहन मूल्य नीचे नहीं आने दिया जाएगा। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने पूछा कि जिस उंचे मूल्य पर दालों का आयात किया जा रहा है, वही भाव घरेलू किसानों को क्यों नहीं दिया जाता ? जवाब में कृषि मंत्री ने कहा कि हाल के वर्षों में दलहन की एमएसपी में 500 रुपये प्रति क्विंटल की बढौतरी की गई है।

Related posts

Leave a Comment