देश की महिला सहकारी समितियों को मिलेगा वित्तीय सहायताः राधा मोहन सिंह

केंद्रीय कृषि एंव किसान कल्याण मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा है कि महिलाओं तक वित्तीय सहायता पहुंचाने के लिए देश की महिला सहकारिता को मजबूत बनाया जाए। महिला सहकारिता की प्रगति और सफलता की अपार संभावनाएं है। सफल महिला सहकारिताओं से अधिक महिलाएं लाभान्वित होंगी।
केंद्रीय कृषि मंत्री नई दिल्ली में राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम द्वारा ‘महिला सहकारिताओं का सुदृढ़ीकरण’ पर आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला में बोल रहे थे। कार्यशाला में सहकारिता से जुड़ी देश की करीब 200 महिलाओं ने हिस्सा लिया।
केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि भारत की 1.2 अरब की जनसंख्या की लगभग 70 प्रतिशत जनसंख्या ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है। महिलाएं फसल बुआई से लेकर फसल कटाई तथा इसके बाद की गतिविधियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। देश की लगभग 8 लाख सहकारिताओं में केवल महिलाओं द्वारा संचालित मात्र 20,014 सहकारिताएं हैं। उनकी भागीदारी बढ़ाने को कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने अपनी सभी योजनाओं का 30 प्रतिशत फंड महिला किसानों के लिए रखता है। इसके अलावा देश के 668 कृषि विज्ञान केन्द्रों में एक महिला वैज्ञानिक की नियुक्ति अनिवार्य कर दी गई है।
उन्हांेने कहा कि मात्स्यिकी क्षेत्र में महिलाओं की हिस्सेदारी और भागीदारिता बढ़ाने के लिए उन्हें प्रशिक्षण तथा माइक्रो वित्त भी दिया जा रहा है। उन्हांेने कहा कि राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम (एनसीडीसी) का उद्देश्य विशेष रूप से सहकारी संस्थाओं को कृषि उपज के उत्पादन, प्रसंस्करण, विपणन, भंडारण, निर्यात तथा आयात इत्यदि के लिए धन मुहैया कराना है।

Related posts

Leave a Comment