खट्टर ने पीएम मोदी को ‘किसान नेता’ साबित करने के लिए सारी हदें पार कीं… किसान नाखुश

केंद्र द्वारा खरीफ फसलों के समर्थन मूल्या में व्यापक बढ़ौतरी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘किसान नेता’ के तौर पर प्रोजेक्ट करने के लिए भारतीय जनता पार्टी की ओर से किए जा रहे प्रयासों पर हरियाणा में कुछ ज्यादा अमल हो रहा है। प्रदेश की खट्टर सरकार की ओर से पीएम मोदी को देश का सबसे बड़ा ‘किसान हितैशी’ जाहिर करने को ग्रामीण इलाकों में बड़े-बड़े होंडिंग लगाए गए हैं। इसके अलावा दूर-दराज तक जाने वाली हरियाणा रोडवेज की बसों पर ऐसे ही बड़े आकार के पोस्टर चस्पां करावाए…

Read More

मध्य प्रदेश के किसानों के लिए लगाई जा रही ‘पाठशाला’….क्यों, यहां जानें

मध्य प्रदेश में किसानों के लिए पाठशाला लगाई जा रही है। वे उन्नत खेती के गुर सीख सकें, इसके लिए ‘किसान खेत पाठशाला’ नाम से कार्यक्रम शुरु किया गया है, जिसका पहला चरण 20 जुलाई को पूरा हो गया। अब दूसरे चरण की ‘क्लास’ लगाने की तैयारी है। दरअसल, इसके पीछे शिवराज चौहान सरकार की मंशा है, मध्य प्रदेश के किसान परंपरागत खेती की बजाए उन्नत और आधुनिक खेती पर जोर दें, ताकि कृषि और सूबे के किसानों की दशा और दिशा सुधार सके। किसान खेत पाठशालाएं पहले चरण में…

Read More

‘कंबाईन हारवैस्टर’ की नंबर एक कंपनी ‘प्रीत’ ने किसानों के लिए नई स्कीम की लांच….क्या है….यहां पढ़ें

खरीफ फसलांे के सीजन के मद्देनजर देश की नंबर एक कंबाईन हारवैस्टर कंपनी ‘प्रीत’ ने किसानों की सुविधा के लिए कई नई स्कीमें लांच की हैं। कंपनी की ओर से कंबाई हारवैस्टर के पार्ट-पूर्जे 24 घंटे उपलब्ध कराने को अलग से प्रबंध किया गया है। इसके अलावा मशीन की खरीद के लिए बैंकों तथा अन्य प्राइवेट फाइनेंस की मदद से कृषकों को लोन की सुविधा भी उपलब्ध कराई जा रही है। हारवैस्टर की खरीद पर हरियाणा सरकार ने सब्सिडी देने का ऐलान किया है। ‘प्रीत’ का दावा है कि उसके…

Read More

ड्रोन करेंगे फसलों की निगरानी, जीपीएस नियंत्रित ट्रैक्टर से होगी जुताई

आने वाले समय में फसलों की सेहत की निगरानी स्मार्ट ड्रोन के जरिए और खेतों की जुताई जीपीएस नियंत्रित स्वचालित ट्रैक्टरों से होगी। खेतों में कब और कितना कीटनाशक, उर्वरक का उपयोग करना है तथा मृदा को बेहतर बनाने के तरीके जैसी चीजें की जानकारी सही समय पर किसानों को आसानी से उपलब्ध हो सकती हैं। यह सब कृत्रिम मेधा ;आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और अन्य संबंधित प्रोद्योगिकी के उपयोग से संभव होगा। नीति आयोग ने कृत्रिम मेधा के लिए राष्ट्रीय रणनीति पर जारी परिचर्चा पत्र में कहा है कि कृत्रिम मेधा…

Read More

हरियाणा के मुख्यमंत्री पहुंच गए इजराइल…क्यों कि…

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल 8 मई से इजराइल दौरे पर हैं। दरअसल, वह समझना चाहते हैं कि इजराइल के कृषक सिंचाई की किल्लत के बावजूद कैसे बेहतर खेती कर अच्छा उपज हांसिल करते हैं। ‘ड्रिप एरिगेशन’ प्रणाली में माहिर इराइल को कम संसाधनों में अधिक से अधिक फसल लेने में महारथ हांसिल है। इराइल के तेल अवीव में अब बालिश्त भर मिट्टी में सब्जी उगाने का प्रयोग चल रहा है। इस लिए मुख्यमंत्री ने हरियाणा के किसानों की आमदनी बढ़ाने के सिलसिल में सूक्ष्य सिंचाई और कम मिट्टी में…

Read More

हरियाणा सरकार ने नीदरलैंड के वागेनिनजेन विश्वविद्यालय से किया करार…खेती-किसानीं को क्या होगा लाभ यहां पढ़ें

प्रदेश में बागवानी क्षेत्र को विकास की बुलंदियों तक पहुंचानेे और फसलों के अवशेषों के बेहतर प्रबंधन की खातिर हरियाणा सरकार ने महत्पूर्ण पहल की है। इसने कृषि-बागवानी के लिए विश्व में टॉप यूनिवर्सिटी माने जाने वाली नीदरलैंड के वागेनिनजेन विश्वविद्यालय के साथ इसपर काम करने का खाका तैयार किया है। सूबे के दो विश्वविद्यालयों हिसार के चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय और करनाल के महाराणा प्रताप बागवानी विश्वविद्यालय, वागेनिनजेन विश्वविद्यालय के साथ राज्य में संरक्षित बागवानी और फसल अवशेष व बायोमास प्रबंधन विकसित करने के उद्देश्य से संयुक्त…

Read More

मोजेक इंडिया फाउंडेशन का कृषि वैज्ञानिको को सम्मान

कृषि में उत्पादन बढ़ाने के उद्देश्य से विशेष शोध के लिए मोजेक इंडिया फाउंडेशन द्वारा इस वर्ष के पुरस्कार डॉ. अबीर डे, डॉ. प्रताप भट्टाचार्य, डॉ. वी. के. सिंह को दिये गये हैं। यह पुरस्कार गुरूग्राम स्थित सहगल फाउंडेशन ऑडिटोरियम में मोजेक इंडिया और सहगल फाउंडेशन द्वारा संचालित कृषि ज्योति परियोजना के 10 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित एक विशेष समारोह में प्रदान किये गये। इससे पहले यह पुरस्कार एक शोधार्थी को उसके विशेष शोध के लिए दिया जाता था लेकिन इस बार तीन पुरस्कार तीन कृषि शोधार्थियों…

Read More

कृषि आधुनिकीकरण में कॉरपोरेट घराने की हिस्सेदारी नहीं

कृषि प्रधान प्रदेश हरियाणा के 90 लाख हेक्टेयर में खेती होने के बावजूद कृषि कार्यों एवं इसके उत्पादों को उन्नत बनाने में किसी कॉरपरेट घराने की अब तक न कोई हिस्सेदारी रही है और न ही दिलचस्पी। किसानों और प्रदेश सरकार की तरह यह वर्ग भी गेहूं, चावल के उत्पादन को घाटे का सौदा मानता हैं, इसलिए कुछ क्षेत्र में कान्ट्रैक्टर फार्मिंग से आगे इस वर्ग ने सोंचा ही नहीं। औद्योगिक संगठन एसोचैम के डायरेक्टर दिलीप शर्मा कहते हैं,‘‘कॉरपोरेट घराना कोई भी काम बिना लाभ-हानि के नहीं करता। प्रदेश सरकार…

Read More

‘‘इसा मेला तो कितै भी ना देखा, जित घुमाई की घुमाई और पढ़ाई की पढ़ाई।’’

यह कहना था गांव ददलाना से तृतीय कृषि नेतृत्व शिखर मेला देखने आई रीना का। रीना ने बताया कि उसके साथ आई महिलाएं भी यह मेला देखकर काफी प्रसन्न हैं। हरियाणा सरकार द्वारा कृषि उद्यमी कृषक विकास चैंबर के सहयोग से रोहतक में आयोजित किए गए तीन दिवसीय किसान मेला में जनसमुदाय का रेला आज अंतिम दिन भी थमने का नाम नहीं ले रहा था। हर किसी के जुबान पर एक ही बात थी कि काश यह मेला एक-दो दिन और चलता तो यहां से और ज्ञानवर्धक जानकारी लेकर जाते।…

Read More

उंची पढ़ाई की, पर झंडे लहरा रहे कृषक बनकर

मलिक असगर हाशमी इंजीनियरिंग, चार्टड एकाउंटेंट, मास कॉम, एमएससी, एमएड जैसी आला डिग्री लेने वाले जब मनपसंद तनख्वाह की नौकरी की चाह में सड़कों पर भटकते रहते हैं, हरियाणा के ऐसे कुछ युवाओं ने ऐसी राह पकड़ी कि आज वे युवा वर्ग के प्रेरणा स्रोत बने हुए हैं। इनकी दूरअंदेशी, व्यापारिक प्रबंधन कौशल और वैज्ञानिक सोंच के आज कृषि, बागवानी और पशुपालन विभाग के अला अधिकारी भी कायल हैं। इन युवाओं ने आला दर्जे की पढ़ाई कर खेती-किसानी अपनाई और लाखों-करोड़ों रूपये में खेल रहे हैं। वे युवाओं को नौकरी…

Read More