बारिश, ओलावृष्टि से पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के किसान बेचैन

पंजाब, हरियाण एवं राजस्थान के कई हिस्से में मंगलवार को बारिश और ओलावृष्टि रहमत और आफत बनकर आई। जहां हलकी बारिश में खेत सराबोर हुए वहां के गेहूं लगाने वाले किसान प्रसन्न हैं, पर भारी बारिश के साथ ओलावृष्टि होनेे वाले कई इलाकों में सरसों एवं गेहूं को नुक्सान पहुंने की खबर है। अचानक तापमान भी गिर गया।
लुधियाना, हिसार, पटियाला, मोहाली, भिवानी, फरीदकोट, अमृतसर, जंदी, अंबाला और जयपुर के गोपालपुरा सहित कई इलाकों में तेज बौछार के साथ बारिश एवं ओलावृष्टि हुई। इसके अलावा दिल्ली-एनसीआर में भी हलकी बारिश दर्ज की गई। कृषि विशेषज्ञ बारिश के बाद मौसम में आए तब्दीली को गेहूं की फसल के लिए फायदेमंद बता रहे हंै। मगर ओलावृष्टि और भारी बारिश से सरसों की फसल को नुक्सान पहुंचा है। मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि पंजाब और हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री अधिक 8.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पंजाब के अमृतसर, लुधियाना और पटियाला में न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री अधिक 6.7 डिग्री सेल्सियस, 6.4 डिग्री सेल्सियस और 9.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
बठिंडा और फरीदकोट में न्यूनतम तापमान क्रमश: 4.8 डिग्री सेल्सियस और 8.5 डिग्री सेल्सियस रहा। हरियाणा के अंबाला में न्यूनतम तापमान सामान्य से चार डिग्री अधिक 10.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हिसार, करनाल और नारनौल में न्यूनतम तापमान 11.3 डिग्री सेल्सियस, 8.5 डिग्री सेल्सियस और आठ डिग्री सेल्सियस रहा। जबकि
रोहतक और भिवानी में न्यूनतम तापमान 11.6 और 11.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। फरीदाबाद का न्यूनतम तापमान 9 डिग्री रहा, जबकि यहां और पड़ोसी शहरों में सुबह से शाम तक कई बार बारिश की बौझारें पड़ीं, जिससे वातावरण में सर्दी घुल गई है।

Related posts

Leave a Comment