जीएसटी में किसानों को राहत, 29 वस्तुएं और 53 सेवाएं सस्ती, देंखें लिस्ट

वस्तु एवं सेवा कर परिषद यानी जीएसटी काउंसिल ने अपनी ताजा बैठक में किसानों को राहत देने की कोशिश की है। हालाकि, उम्मीद इससे कहीं अधिक की थी। माना जा रहा था कि आवश्यक कृषि यंत्रों के अलावा खेती-किसानी से जुड़ी दूसरी वस्तुओंं की खरीद में भी राहत दी जाएगी, पर ऐसा हुआ नहीं। इसके बावजूद किसान थोड़ी राहत से भी प्रसन्न हैं। इकोनॉमिक्स टाइम्स के मुताबिक, जीएसटी काउंसिल की बैठक में बायोडीजल, बॉटल्ड वॉटर, हीरे एवं कीमती रत्नों, शुगर कैंडी, टेलरिंग सर्विसेज, एम्यूजमेंट पार्कों और लो-कॉस्ट हाउजिंग कंस्ट्रक्शन सर्विसेज के रेट्स घटाने के निर्णय लिए गए हैं। नए दर 25 जनवरी से लागू होंगे। इन कटौतियों से सरकार के राजस्व को 1000-1200 करोड़ रुपये के नुक्सान का अनुमान है।

नई जीएसटी दरें
इन पर 28 प्रतिश से कम जीएसटी
-बायो डीजल से चलनेवाली पुरानी बसें।
-पुराने लग्जरी यात्री वाहनों को छोडक़र सभी पुराने वाहनों पर जीएसटी 28 से घटकर 12 प्रतिशत होगी।

इन सामानों पर 18 से घटकर 5 प्रतिशत
-इमली बीज पाउडर।
-कोन में पैक मेंहदी।
-निजी रसोई गैस आपूर्तिकताओं द्वारा रसोई गैस की आपूर्ति।
-प्रक्षेपण वाहन, उपग्रह और पेयलोड के लिए आवश्यक वैज्ञानिक एवं तकनीकी उपकरण, असेसरीज, कलपुर्जे, स्पयेर टूल्स।

12 से घटकर 5 प्रतिशत जीएसटी
-वेल्वेट फैब्रिक पर भी जीएसटी 12 प्रतिशत से कम कर पांच प्रतिशत हो जाएगी।

इन पर 18 से घटकर 12 फीसदी
-चीनी वाली कंफेक्शनरी।
-20 लीटर के जार में बंद पेयजल।
-उर्वरक योग्य फॉस्फेरिक एसिड।
-बायो डीजल।
-12 तरह के बॉयो कीटनाशक।
-बांस के घर बनाने के लिए उपयोगी कनेक्टर।
-ड्रिप सिंचाई उपकरण और मैकेनिकल स्प्रेयर।

हीरे और कीमती पत्थर पर टैक्स में कटौती
हीरे और कीमती पत्थरों पर जीएसटी की दर को तीन फीसदी से कम कर 0.25 प्रतिशत कर दिया गया है।

टैक्स फ्री हुए ये सामान
-विभूत, हियरिंग उपकरणों के निमार्ण के लिए उपकरण।
-तेल निकाला हुआ चावल का छिलका।
-हस्तशिल्प उत्पादों की श्रेणी में शामिल 40 वस्तुओं पर कोई टैक्स नहीं।

बढ़ गया टैक्स
-बिना तेल निकाले गए चावल के छिलके पर जीएसटी दर शून्य से बढ़ाकर 5 प्रतिशत हो गई।
-सिगरेट फिल्टर पर जीएसटी दर 12 प्रतिशत से बढ़ाकर 18 प्रतिशत की गई है।

महंगी हुईं ये सेवाएं
28 से 18 प्रतिशत
-थीम पार्क, वॉटर पार्क, जॉय राइड, मेरी गो राउंड, गो कार्टिंग बैलेट जैसी सेवाओं पर 18त्न जीएसटी लगेगा, जो पहले 28त्न था।

ये सेवाएं सस्तीं
18 से घटकर 5 प्रतिशत जीएसटी
कपड़ों की सिलाई से जुड़ी सेवाओं पर।
चमड़े के सामान, फुटवियर का उत्पादन।

18 से घटकर 12 प्रतिशत
-मेट्रो और मोनो रेल निर्माण प्रॉजेक्ट।
-पेट्रोलियम पदार्थों और नैचरल गैस की माइनिंग, ड्रिलिंग सर्विसेज।
-पेट्रोलियम प्रॉडक्ट्स के ट्रांसपोर्टेशन पर टैक्स क्रेडिट के साथ जीएसटी घटाकर 12 प्रतिशत और टैक्स क्रेडिट के बिना 5 प्रतिशत किया गया है।
-मिड डे मील के लिए बननेवाली बिल्डिंग पर 12 फीसदी जीएसटी।

28 से 18 प्रतिशत
थीम पार्क, वाटर पार्क बनाने

इन सेवाओं पर भी राहत
प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत ईडब्ल्यूएस, एलआईजी, एमआईजी वन और एमआईजी भवन के लिए घोषित क्रेडिट लिंक सब्सिडी स्कीम के तहत घर के निर्माण पर जीएसटी दरें कम होंगी।
सभी तरह के शिक्षण संस्थानों में प्रवेश के लिए फी और सेवाओं पर जीएसटी में छूट।
आरडब्ल्यूए मेंबर्स को दी जा रही सर्विसेज पर छूट सीमा 5000 रुपए से बढ़ाकर 7500 रुपए कर दी गई है।
छात्रों, शिक्षकों या स्टाफ के यातायात सेवाओं पर भी जीएसटी से छूट दी गई है, यह छूट हायर सेकंडरी तक ही लागू होगी।
आरटीआई ऐक्ट के तहत सूचना मुहैया करानेवाली सेवाओं को जीएसटी से छूट दे दी गई है।
भारत से बाहर प्लेन के जरिए सामान भेजने पर ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज को जीएसटी से छूट दी गई है।
समुद्री जहाज से सामान भेजने पर भी छूट दी गई है। यह छूट 30 सितंबर, 2018 तक रहेगी।
क्षेत्रीय संपर्क बढ़ाने के लिए बननेवाले एयरपोर्ट को मिलनेवाली वाइबिलिटी गेप फंडिंग पर जीएसटी छूट की सीमा को 1 साल से बढ़ाकर 3 साल कर दिया गया है।

Related posts

Leave a Comment