एक किसान की शिकायत पर हिल गया इफको

हरियाणा के एक किसान की शिकायत पर इफ्को हिला हुआ है। किसान का दावा है कि इसने बाजार से इफको के 50 किलो यूरिया का जो बैग खरीदा था मापने पर वह आठ किलो कम निकला । इस बारे में मैगन भानु भाई गोंडलिया नामक किसान के एक सोशल मीडिया पर बैग की फोटो पोस्ट करने पर लोगों ने सख्त प्रतिक्रिया दी है ।
गोंडालिया ने कहा कि इफको का यूरिया बैग लाकर उसने जब वजन किया तो पाया कि बैग पर छपी मात्रा की तुलना में यह कम है। हालांकि, इफको ने आरोपों को खारिज करते हुए सफाई दी है कि किसान के साथ धोखाधड़ी के लिए सहकारी समिति जिम्मेदार है। जबकि कुछ लोग इफको की इस सफाई से असहमति हैं और इसे बड़ा घोटाला बताते हुए मामले की जांच की मांग की है ।
आरोपों की गंभीरता को देखते हुए केंद्रीय संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने प्राथमिकता के आधार पर इसकी की जांच कराने को कहा है। इफको के प्रबंध निदेशक डॉ उदय शंकर अवस्थी ने संगठन का बचाव करते हुए कहा कि इस मामले मंे इनकी कंपनी की कोई गलती नहीं है।
एक ट्वीट में उन्होंने कहा कि इफको का बैग हरा धागा से सिला होता है और किसान ने सोशल मीडिया पर जो बैग दर्शाया है वह सफेद धागे से मुहरबंद है। इसलिए इस मामले में स्पष्ट है कि यह किसी के द्वारा खोला गया़। इसके साथ यह भी कहा गया है कि बैग कहीं से खुला रह गया, इसलिए यूरिया कहीं निकल गया। इस लिए ग्राहक को बैग से 50 किलो के बजाय 42 किलो यूरिया ही मिला। इफको ने पीड़ित किसान की क्षतिपूर्ति का भरोसा दिया है। आईएफएफसीओ ने इस घटना की नैतिक जिम्मेदारी ली है और भरपाई का आश्वस्त दिया है।

Related posts

Leave a Comment