खरीफ सीजन में दलहन की पैदवार बनाएगी यह नया रिकॉर्ड

इस बार मानसून की सक्रियता की वजह देश में खरीफ की बुआई में तेजी देखी जा रही हैं। पिछले साल की अपेक्षा बुआई बेहतर है। कृषि विभाग के मुताबिक अभी तक करीब 90 फीसदी दलहन फसलों की बुआई हो चुकी है। यदि दलहन फसलों की बुआई की रफ्तार ऐसी ही रही तो चालू खरीफ सीजन में यह नया रिकॉर्ड बनाएगी।

मौसम विभाग के मुताबिक अभी तक देश में सामान्य से अधिक बारिश हुई है। मानसून 101 फीसदी रहा है। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के मुताबिक खरीफ सीजन में दलहन फसलों का कुल रकबा 105.58 लाख हेक्टेयर है। 21 जुलाई तक देश में 93.46 लाख हेक्टेयर में दलहन फसलों की बुआई हो चुकी है। जो सामान्य रकबे के करीब 90 फीसदी क्षेत्र है। पिछले साल इस समय तक देश में 90.33 लाख हेक्टेयर में दलहन फसलों की बुआई हुई थी। सरकारी अनुमान के मुताबिक इस समय तक देश में 67.65 लाख हेक्टेयर में दलहन फसलों की बुआई होनी चाहिए। अभी तक हुई बुआई अनुमान से 25.80 लाख हेक्टेयर अधिक है।
कृषि मंत्रालय के मुताबिक खरीफ दलहन फसलों में प्रमुख अरहर की बुआई 29.32 लाख हेक्टेयर, उड़द 26.71 लाख हेक्टेयर, मूंग 23.09 लाख हेक्टेयर, कुल्थी 0.17 लाख हेक्टेयर और 14.06 लाख हेक्टेयर में अन्य दलहन फसलों की बुआई हुई है। बुआई के बेहतरीन आंकड़ों को देखकर उत्पादन भी अच्छा होने का अनुमान लगाया जा रहा है। पिछले साल दालों का बेहतरीन उत्पादन और चालू खरीफ सीजन में फसलों की अच्छी बुआई पर हाल ही में केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि सरकार उत्पादन बढ़ाने के लिए बेहतर गुणवत्ता के बीच और तकनीक के उपयोग को लेकर कदम उठा रही है। फसल वर्ष 2016-17 में दालों का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ। इस वर्ष बुआई क्षेत्र भी ज्यादा है। देश आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रहा है। अगले दो से तीन सालों में दालों में आत्मनिर्भर हो जाएंगे।

Related posts

Leave a Comment