डेयरियों में रोजाना दूधारू पशुओं से होता है अत्याचार

भारत के छह प्रमुख महानगरों के शहरी क्षेत्रों में चलने वाली डेयरियों में प्रतिदिन तकरीबन पांच करोड़ पशु प्रताड़ना झेलने को मजबूर हैं। कई बार डेयरी मालिक दूधारु गाय, भैंसों के साथ कू्ररता की तमाम हदें लांघ जाते हैं। इस रहस्य पर से पर्दा उठा है एक संस्था के अनुसंधान से।
देश में डेयरी पशु पालन अधिनियम के तहत पशुओं के प्रति क्रूरता रोकने को अनेक कानून हैं। इसके बावजूद डेयरियां इसका अनुपालन नहीं करतीं। पर्यावरण संरक्षण के लिए निर्धारित नीतियोें का भी खुला उल्लंघन किया जा रहा है। एक अनुमान के मुताबिक, महानगरीय डेयरियों में प्रतिदिन 50 मिलियन यानी पांच करोड़ डेयरी पशु प्रताड़ित होते हैं। बुरा सलूक करने के अलावा तरह-तरह की यातनाएं दी जाती हैं।
इस बारे में अनुसंधान करने वाली संस्था विश्व पशु संरक्षण ने वीडियो तैयार कर भारत सरकार से शहरों से डेयरिया हटाने की मांग की है। संस्था का कहना है कि दूध निकालने के बाद पशुओं को सड़कों पर गंदगी खाने को छोड़ दिया जाता है। डेयरियों में पशु छोटी-छोटी रस्सियों से बांध कर रखे जाते हैं। रहने का स्थान इतना संकरा और गंदा होता है कि वह ठीक से सांस भी नहीं ले पातीं। खड़े होने, बैठने, आगे बढ़ने, घूमने, मूत्र-मल त्यागने में भी दिक्कत होती है।
डेयरियों के पशु अक्सर कुपोषण और तनाव के शिकार रहते हैं। प्रजनन में उन्हें उचित चिकित्सा भी नहीं मिलती। पशु चिकित्सकों से उनका नियमित चेकअप नहीं कराया जाता। उन्हें बेकार और बासी भोजन और सीवेज जल दिया जाता है। विश्व पशु संरक्षण की कृषि प्रोजेक्ट की मैनेजर खुशबू गुप्ता का कहना है कि उनकी संस्था डेयरियों में पशुओं की भयावह स्थिति को लेकर चिंतित है। मानव उपभोग के लिए तैयार दूध की गुणवत्ता भी इससे प्रभावित हो रही है। डेयरियों में रहने वाले पशुओं के शव का ठीक से निपटान नहीं किए जाने से बीमारियां फैलने का खतरा भी हमेशा बना रहता है।
न्यूज एजेंसी एएनआई की खबर के मुताबिक, वर्ल्ड एनिमल प्रोटेक्शन इंडिया के कंट्री डायरेक्टर गजेेंद्र कश्मीर शर्मा ने कहा है कि महानगरीय डेयरी के पशुओं पर किए गए अनुसंधान के आधार पर भारत सरकार को सबूत पेशकर शहरों से डेयरी हटाने का आग्रह किया गया है। उन्होंने डेयरी पशु प्रबंधन के लिए राष्ट्रीय डेयरी कोड लागू करने की भी मांग की है। संस्था जल्द ही शहर से डेयरी हटवाने को लेकर कोर्ट में याचिका भी दायर करेगी।

Related posts

Leave a Comment