योगी के ऋण माफी पर सियासत गर्म, कांग्रेस और शिवसेना ने दूसरे राज्यों के कर्जदार किसानों को लाभ देने की मांग उठाई

उत्तर प्रदेश के छोटे और सीमांत किसानों के 36,359 करोड़ रुपये के कृषि ऋण माफ करने के योगी आदित्यनाथ के फैसले पर सियासत गर्मा गई है। शिवसेना और कांग्रेस ने यूपी सरकार के फैसले को अनुकरणीय बताते हुए इसका लाभ महाराष्ट्र सहित सूखा प्रभावित दूसरे प्रदेशों के किसानों को भी देने की मांग उठाई है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्ज माफी को अंाशिक बताया है।
शिवसेना नेता संजय राऊत ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा उठाया गया कदम अनुकरण है। इसके लिए योगी आदित्यनाथ को बधाई देते हुए कहा कि इस फैसले के आधार पर पंजाब, महाराष्ट्र और तमिलनाडु जैसे दूसरे राज्यों के प्राकृतिक आपदा प्रभावित किसानों के भी ऋण माफ कर देने चाहिए।
राउत ने कहा कि प्राकृतिक आपदा से तबाह होकर सबसे अधिक किसान महाराष्ट्र में आत्महत्या करते हैं। बैंकों का कर्ज इसका मुख्य कारण है। यूपी के किसानों के 36,359 करोड़ रुपये के ऋण माफ़ करने के फैसले की कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी तारीफ की है। इसके साथ इसे आंशित राहत बताते हुए उन्होंने केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार से भेदभाव भुलाकर अन्य राज्यों में भी इसे लागू करने की मांग की है।
राहुल ने ट्वीट्स कर कहा कि इस निर्णय से उत्तर प्रदेश के किसानों को आंशिक लाभ मिलेगा। योगी के फैसले पर कांग्रेस ने कहा कि किसानों को दी जाने वाली राहत थोड़ी है। कांग्रेस प्रवक्त रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि प्रत्येक किसान के एक लाख रुपये माफ करने के बावजूद उन्हें कर्ज से मुक्ति नहीं मिलेगी।
उत्तर प्रदेश में किसानों पर कुल ऋण 92, 241 करोड़ रुपये बकाया है, जिसमें से केवल 36,000 करोड़ रुपये माफ किए गए हैं। किसानों पर अब भी 56,000 करोड़ रुपये का कर्ज है। कांग्रेस ने योगी सरकार से सवाल किया कि वह बाकी ऋण कब माफ करेगी ? दूसरी तरफ,योगी सरकार द्वारा ऋण माफ करने पर यूपी के किसानों नेे खुशी जाहिर की है। उनका कहना है कि सरकार ने उनसे किए गए वादे पूरे किए हैं।
फोटोः साभार गूगल
————–

Related posts

Leave a Comment