विदेशी कंपनियों के लिए खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में अपार संभावनाएं: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैश्विक कंपनियों से भारत में आने और खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में निवेश करने को आंमत्रित किया है। उन्होंने कहा कि कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में भारत में निवेश की व्यापक संभावनाएं। इसका दुनिया पर बड़ा अवसर भी है ।
मोदी ने कहा कि खाद्य प्रसंस्करण भारत में जीवनशैली का हिस्सा है। सामान्य से घर की तकनीक के आधार पर इसे पूरा किया जाता है। अचाड़, पापड़, चटनी, मुरब्बा दुनियाभर में संभ्रांत वर्ग के साथ सामान्य लोगों की पसंद है। उन्होंने कहा कि ठेका कृषि, कच्चे माल की प्राप्ति और कृषि से जुड़े क्षेत्रों में अधिक निवेश की जरूरत है। यह वैश्विक स्तर पर स्पष्ट रूप से अवसर प्रदान करता है। मोदी ने कहा कि फसल कटाई के बाद प्रबंधन के संबंध में भी काफी अवसर हैं। ये क्षेत्र प्रसंस्करण और भंडारण से लेकर इन्हें संरक्षित करने के लिए आधारभूत ढांचा तैयार करने तथा शीत श्रृंखला एवं शीतलन के तहत परिवहन व्यवस्था तैयार करने से संबंधित हैं। खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में भी काफी संभावनाएं हैं। इसके साथ ही जैविक खेती और खाद्य उत्पादों के क्षेत्र में भी मूल्यवर्द्धन की संभावनाएं हैं। वह ‘विश्व खाद्य भारत’ सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि नये क्षेत्रों में निवेश में 2016 की वैश्विक रैंकिंग में भारत पहले स्थान पर रहा। भारत तेजी से वैश्विक नवोन्मेष रैंकिंग, वैश्विक लाजिस्टिक रैंकिंग और वैश्विक प्रतिस्पर्धा रैंकिंग में प्रगति कर रहा है।

Related posts

Leave a Comment