खुशखबरी: मॉनसून का पहला अनुमान जारी, समय पर होगी बारिश, नहीं पड़ेगा सूखा

 

नई दिल्ली, एजेंसी। खेती-किसानों से जुड़े लोगों के लिए अच्छी खबर है। मौसम की जानकारी देने वाली निजी एजेंसी स्काईमेंट ने मॉनसून का पहला अनुमान जारी करते हुए कहा है कि इस बार मानसून सामान्य और समय पर रहेगा।

स्काईमेट के मुताबिक, इस वर्ष देश में मॉनसून सामान्य रहने की उ मीद है। जून-सितंबर के बीच 100 फीसदी मॉनसून का अनुमान है। इस बार बारिश की शुरुआत भी समय पर होगी। यही नहीं सामान्य से 20 फीसदी ज्यादा बारिश होने की भी संभावना जताई गई है। स्काईमेट ने अपनी वेबसाइट पर जारी रिपोर्ट में कहा है कि इस बार सूखा पडऩे की संभावना जीरो फीसदी है।

स्काईमेट की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल सामान्य से कम बारिश होने की संभावना सिर्फ 20 फीसदी है। वहीं, सामान्य से ज्यादा बारिश होने की संभावना भी 20 फीसदी और भारी बारिश की संभावना 5 फीसदी है। इस साल सूखा पडऩे की आशंका नहीं के बराबर है।

-96 फीसदी से 104 प्रतिशत बारिश

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल जून-सितंबर के बीच 100 फीसदी मॉनसून का अनुमान है। पूरे सीजन के लिए 96 से 104 फीसदी बारिश होने की संभावना 55 फीसदी है। पूरे सीजन में भारी बारिश की संभावना महज 5 फीसदी है।

उत्तर भारत में कैसी होगी बारिश

उत्तर भारत की बात करें तो वाराणसी, गोरखपुर, लखनऊ, शिमला, मनाली, देहरादून, श्रीनगर सहित पूर्वी यूपी, उत्तराखंड, हिमाचल और ज मू एंड कश्‍मीर के इलाकों में सामान्य से ज्यादा बारिश की उ मीद है। जबकि दिल्ली, अमृतसर, चंडीगढ़, आगरा, जयपुर और जोधपुर के इलाकों में सामान्य बारिश हो सकती है।

यहां हो सकती है भारी बारिश

मध्य भारत में मुंबई, पुणे, नागपुर, नासिक, इंदौर, जबलपुर, रायपुर और आस-पास के इलाकों में भारी बारिश की संभावना है। अहमदाबाद, वडोदरा, राजकोट और सूरत जैसे शहरों में सामान्य बारिश हो सकती है।

दक्षिण भारत में कम होगी बारिश

दक्षिण भारत की बात करें तो चेन्नई, बंग्लुरु, तिरुवनन्तपुरम, कोन्नूर, कोझिकोड, हैदराबाद, कर्नाटक के तटीय इलाकों में विजयवाड़ा, विशाखापत्तनम में इस बार मानसून सामान्य या सामान्य से कुछ कम रहेगा।

किस महीने कितनी बारिश

जून : लॉन्ग पीरियड एवरेज (एलपीए) 111 फीसदी रह सकता है। इस दौरान 164 एमएम बारिश होगी।

जुलाई : एलपीए 97 फीसदी रह सकता है। इस दौरान 289 एमएम बारिश होने की संभावना है।

अगस्त : एलपीए 96 फीसदी रह सकता है। इस दौरान 261 एमएम बारिश की उ मीद है।

सितंबर: लॉन्ग पीरियड एवरेज 101 फीसदी रह सकता है। इस दौरान 173 एमएम बारिश होगी, ऐसा अनुमान है।

Related posts

Leave a Comment