‘फार्मर मार्केट’ में गुरूग्राम के पॉश इलाके के लोगों को कौन उपलब्ध कराएगा सस्ती और ताजी सब्जियां, यहां जानें…..

खालिस यूरोपियन स्टाइल में दिल्ली से सटे साइबर सिटी के पॉश इलाकों में सुबह-सुबह ताजी और सस्ती सब्जियां उपलब्ध कराई जाएंगी। इस प्रोजेक्ट की सफलता-विफलता को आंकने के लिए रविवार को इस दिशा में किए गए प्रयास बेहद उत्साहवर्धक रहे। इसमें दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स के छात भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। योजना का नाम दिया गया है-फार्मर मार्केट।
सइबर सिटी से मशहूर गुरूग्राम के पॉश इलाके में सब्जियां बेहद महंगी मितली हैं। किसानों से खरीदी गई सब्जियांें की कीमत बिचौलियों के माध्यम से उन तक पहुंचने में बेहद उंची हो जाती हैं। दूसरी तरफ आम किसानों का दर्द है कि उन्हें अपनी पैदावार की लागत निकालना भी मुश्किल हो रहा है। विक्रेता एवं उपभोक्ता की इस समस्या का हल ढूंढने की कोशिश की है गुरूग्राम के जिला बागवानी अधिकारी दीन मोहम्मद ने। उन्होंने किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य दिलाने और पॉश इलाके में रहने वालों को सस्ती- ताजी सब्जियां उपलब्ध कराने को ’फार्मर मार्केट’ प्रोजेक्ट शुरू किया है।
योजना की परख के लिए किसानों, रेजिडेंट वेल्फेयर सोसायटी की मदद से रविवार को गुरूगाम के सेक्टर 43 मंें पहला फार्मर मार्केट लगाया गया। मजे की बात यह रही कि मात्र दो से तीन घंटे मंे 10 कुंतल से अधिक सब्जियां बिक गईं। दीन मोहम्मद बताते हैं कि इनदिनों किसान मंडियों में अपनी फूलगोबी दो रूपये किलो बेच रहे हैं, पर फार्मर मार्केट में गोबी 20 रूपये किलो लोगांें ने हाथों-हाथ खरीद लिया।
अपने पायलेट प्रोजेक्ट की सफलता से गुरूग्राम के जिला बागवानी अधिकारी दीन मोहम्मद इस कदर उत्साहित हैं कि इसे अगले एक सप्ताह में जमीन पर उतारने का मन बना लिया है। उन्होंने बताया कि शहर के तमाम रेजिडेंट वेल्फेयर एसोसिएशन की मदद से एक-एक सप्ताह का रूट मैप तैयार किया जाएगा। उस हिसाब से जिले के किसानों का एरिया बांटा जाएगा। निर्धारित दिन और समय पर इलाके के किसान अपने पैैदावार लेकर सेक्टर-सोसायटी में पहुंचेंगे। योजना के प्रचार-प्रसार की जिम्मेदारी दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स के छात्रांे को दी जाएगी। वे योजना की मार्केटिंग का हिस्सा भी होंगे।
(मलिक असगर हाशमी)

Related posts

Leave a Comment